भारत गौरव ट्रेन (Bharat Gaurav Train)

भारतीय गौरव ट्रेन क्या है, मुख्य बिंदु (What is Bharat Gaurav Train, important points)

भारतीय रेलवे एक बड़ी सौगात ले कर आई है। जिन्हे रेलगाड़ी से यात्रा करना पसंद है, उन्हे भारतीय रेलवे की नई योजना से खुशी मिलेगी। रेलवे ने एक सौ अस्सी भारत गौरव ट्रेनों को चलाने का फैसला किया है। गौर करनेवाली बात ये है कि इन ट्रेनों में तीन हजार से अधिक कोचेज होंगें।भारत गौरव ट्रेनों की खास बात ये है कि कुछ शर्तो को पूरी करने के बाद निजी कंपनियां भी ट्रेंस को किराए पर ले सकती हैं। इस योजना का एक लक्ष्य भारतीय संस्कृति और धरोहर के लिए पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करना भी है।तो आइए, इस आर्टिकल के जरिए भारतीय रेल द्वारा लाई जाने वाली भारत गौरव ट्रेन योजना के संदर्भ में जानते हैं।

क्या है भारत गौरव ट्रेन (What is Bharat Gaurav Train)

23 जनवरी, 2021 को भारतीय रेलवे ने भारत गौरव ट्रेन योजना शुरू की है। ये एक रोचक पहल है, जिसमें प्राइवेट टूर ऑपरेटर्स रेलगाड़ियों को भारतीय रेलवे से लीज पर ले सकते हैं। इसके बाद,प्राइवेट टूर ऑपरेटर्स इन रेलगाड़ियों को अपने पसंद के सर्किट पर ले जा सकते हैं और रेल के किराए का निर्धारण भी कर सकते हैं। हालाकि निजी एवं आईआरसीटीसी कंपनियां दोनों ट्रेंस का संचालन कर सकती हैं।उल्लेखनीय तथ्य ये है कि ये योजना थीम बेस्ड पर्यटन को बढ़ावा देने में सहायक होगी। उदाहरणस्वरूप, भारतीय रेल गुरुकृपा गुरुनानक जी से जुड़ी सारी जगहों पर जाती है और पर्यटक बिना किसी दिक्कत के उन जगहों तक पहुंच जाते हैं।उसी प्रकार थीम बेस्ड पर्यटन से भारत के दर्शनीय स्थलों को लाभ मिलेगा।

भारत गौरव ट्रेन से जुड़े मुख्य बिंदु ( Bharat Gaurav Train Salient Features)

  • प्राइवेट टूर ऑपरेटर्स को रेल का किराया निर्धारित करने की आजादी मिलेगी।
  • प्राइवेट टूर ऑपरेटर्स लीज पर ली गई ट्रेंस के रूट्स भी तय करेंगे।
  • इस योजना को फलीभूत करने के लिए करीब डेढ़ सौ से अधिक रेलगाड़ियां आवंटित की गई हैं।
  • ट्रेन को स्टेट गवर्नमेंट्स से ले कर ट्रस्ट्स, सोसायटीज भी लीज पर ले सकती हैं।
  • ऑपरेटर को ट्रैवल कर रहे लोगो की सुविधाओ का ख़्याल रखना होगा।
  • भारतीय गौरव ट्रेंस भारत की समृद्ध संस्कृति और प्राचीन धरोहर की ओर पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करने में मदद करेंगी।
  • पर्यटकों को पैकेज दिया जाएगा जिसमे रेल यात्रा, भ्रमण आदि की सुविधा मिलेगी।
  • पर्यटकों द्वारा सेवा के अनुरूप पैकेज के लिए पैसा दिया जाएगा।
  • ट्रेनों के अंदर एडवरटाइजमेंट करने की परमिशन होगी।
  • जो इस प्रक्रिया में ऑपरेटर बनने के लिए उत्सुक हों, उन्हे एक लाख रुपए की रजिस्ट्रेशन फीस देनी होगी।रजिस्ट्रेशन फीस एक बार ही देनी पड़ेगी।

और पढ़ें-

क्या भीख में मिली आजादी

आईएनएस विशाखापत्तनम

डीजीपी कांफ्रेंस

S-400

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *