क्रिकेट खेल के नियम

क्रिकेट के नियम, निबंध, टेस्ट, वन डे, टी-20 मैच नियम (Cricket Rules, Eassy, List, ODI, Test, T-20 Match Rules in Hindi)

आज विश्व में आप कहीं पर भी देख लो हर देश का अपना राष्ट्रीय खेल होता है और वह उस देश का लोकप्रिय खेल भी होता है लेकिन क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो सभी जगह एक समान लोकप्रिय है. क्रिकेट खेलने वाले और इसका आनंद लेने वाले दशकों की संख्या दिनों दिन बढ़ती जा रही हैं. बल्लेबाज नए नए रिकॉर्ड बना रहे हैं और दर्शकों के बीच उनकी फैन फॉलोइंग इतनी ज्यादा हो गई हैं कि वह आज के समय में एक सेलिब्रिटी से भी बढ़कर माने जाते हैं. हम आपको बता देते हैं कि क्रिकेट का आविष्कार इंग्लैंड में हुआ था. इंग्लैंड के अंदर इसका अगर प्रथम बार क्रिकेट खेलने का कोई रिकॉर्ड मिलता है तो वह है 17वी शताब्दी की शुरुआत में. तो इस हिसाब से क्रिकेट ज्यादा पुराना नहीं है लेकिन फिर भी काफी पुराना है और आज भी पहले से कई गुना ज्यादा पॉपुलर भी है.

क्रिकेट केवल अब इंग्लैंड के लिए ही इतना लोकप्रिय नहीं रहा था जितना बाकी देशों के लिए, क्योंकि अब यह खेल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंच चुका था. इसके बाद धीरे-धीरे क्रिकेट के अलग-अलग फॉर्मेट बनने लगे, इसके अलग-अलग रूल बनने लगे और इसको अलग-अलग देशों में खेला जाने लगा. क्रिकेट का 16 – 17 वी शताब्दी में जो स्तर था वह अब काफी ऊपर उठ गया था और यह एक ऐसा खेल बन गया जो बाकी फुटबॉल जैसे खेलों को भी पछाड़ने लगा. आज के समय में देखा जाए तो क्रिकेट अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगभग सभी देशों में समान रूप से खेला जाने लगा है और इनमें सभी देशों की भागीदारी भी अच्छी होती है. हम अगर वर्ल्ड कप की बात करें तो जिसमें पूरे वर्ल्ड के देशों की क्रिकेट टीम एक साथ आकर एक दूसरे के सामने क्रिकेट के मैदान में टक्कर लेते हैं और उसके बाद चैंपियन टाफी अपने साथ ले जाती हैं. ऐसे क्रिकेट के कुछ कानून कायदे भी हैं और यह कानून कायदे मानना हर खिलाडी के लिए अनिवार्य हैं. तो चलिए आज हम आपको बताते हैं क्रिकेट के बारे में पूरी जानकारी, जोकि इसके कानून कायदे और उसके फॉर्मेट और उसको किस प्रकार खेला जाता है यह सब होगी.

क्रिकेट जगत के अंदर इसके 2 सबसे बड़े फॉर्मेट माने जाते हैं जिसके अंदर एक होते हैं उच्च स्तर और निम्न स्तर यानी कि मेजर फॉर्मेट और मेनर फॉरमैट. यहाँ हम दोनों फॉर्मेट एवं उसके नियमों के बारे में बात कर रहे हैं जोकि इस प्रकार हैं.

मेजर क्रिकेट फॉर्मेट (Major Cricket Format)

सबसे पहले हम बात करते हैं मेजर क्रिकेट फॉर्मेट की, क्योंकि यह क्रिकेट सबसे ज्यादा पॉपुलर फॉर्मेट है और इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी खेला जाता है. इसमें निम्न मैच खेले जाते हैं –

  • टेस्ट क्रिकेट मैच के नियम (Test Cricket Match Rules)

क्रिकेट के सबसे पुराने अध्याय में देखा जाए तो यह फॉर्मेट सबसे पुराना है. कुछ लोगों का यही मानना है कि क्रिकेट की शुरुआत इसी टेस्ट क्रिकेट मैच प्रारूप से शुरू हुई थी, जो धीरे-धीरे अपना रूप बदलती गई और नई-नई फॉर्मैट्स में ढल गई. टेस्ट मैच सबसे पुराना है और इसके लिए कायदे कानून सन 1774 में पहली बार आधिकारिक रूप से स्थापित किए गए, और सन 1877 में पहली बार इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच कानूनी टेस्ट मैच खेला गया. इसके अलावा इंग्लैंड ऑस्ट्रेलिया दक्षिण अफ्रीका वेस्टइंडीज न्यूजीलैंड भारत पाकिस्तान श्रीलंका जिंबाब्वे और बांग्लादेश जैसे देशों में भी धीरे-धीरे इसका प्रारूप आने लगा.

  1. टेस्ट मैच के अंदर 1 दिन में कम से कम 90 ओवरों की गेंदबाजी होती है.
  2. टेस्ट में मैं आपको नई गेंद प्रत्येक 80 ओवर समाप्त होने के बाद प्राप्त होगी.
  3. टेस्ट मैच में निर्णय प्रणाली में काफी बदलाव किया है 2009 के संशोधन के बाद थर्ड अंपायर द्वारा दिया DRS लिया जाता है.
  4. टेस्ट क्रिकेट में हमेशा आप दिन को ही खेलते हैं वह भी प्राकृतिक प्रकाश उसकी रोशनी में लेकिन अब इसे बदल कर आधुनिक लाइट मैं भी खेला जाता है.
  • ODI क्रिकेट मैच के नियम (ODI Cricket Match Rules) –

अंतरराष्ट्रीय तौर पर देखा जाए तो ओडीआई क्रिकेट फॉर्मेट सबसे पॉपुलर माना जाता है क्योंकि यह मैच 1 दिन में ही समाप्त हो जाता है.

  1. ओ डी आई क्रिकेट मैच मात्र 50 ओवर का ही होता है.
  2. इस एक दिवसीय मैच 11 खिलाड़ियों द्वारा दो टीमों में आपस में खेला जाता है.
  3. टॉस जीतने वाला कप्तान पहले बल्लेबाजी या गेंदबाजी का चयन करता है और पहले बल्लेबाजी करने वाली टीम एक पारी यानी कि 50 ओवर में जितना स्कोर करती हैं उतना ही अगले 50 ओवर में दूसरी टीम को जीतने के लिए उस लक्ष्य को पार करना होता है.
  4. इसमें प्रत्येक गेंदबाज को ज्यादा से ज्यादा 10 ओवर गेंदबाजी के लिए दिए जाते हैं उससे ज्यादा नहीं.
  5. स्कोर दोनों टीमों का बराबर होने पर उस मैच को टाई घोषित कर दिया जाता है.
  6. मैच को टाई घोषित करने पर दोनों टीमों को 1-1 अंक दिया जाता है.
  7. अंतरराष्ट्रीय तौर पर होने वाला वर्ल्ड कप इसी फॉर्मेट के दायरे में किया जाता है जिसमें दुनिया के कई देश इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेते है.
  • ट्वेंटी ट्वेंटी क्रिकेट मैच के नियम (T – 20 Cricket Match Rules)

क्रिकेट जगत में देखा जाए तो यह फॉर्मेट सबसे छोटा और सबसे कम समय में खेला जाने वाला होता है. क्योंकि इसमें केवल 20 और का पूरा खेल होता है जिसमें पहली पारी को 20 और मिलते हैं जिसमें वह जितना स्कोर बनाएगी उसके बाद दूसरी टीम की बारी आती है 20 और खेलने के लिए. अगर सही समय और सही मायनों में यह खेल खेला जाए तो यह मात्र 4 घंटे का खेल होता है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस खेल की लोकप्रियता सबसे ज्यादा हैं आज के समय में क्योंकि इसमें दर्शकों को ज्यादा समय तक बैठा नहीं रहना पड़ता है.

  1. इस फॉर्मेट में प्रत्येक बॉलर अधिक से अधिक केवल चार ओवर ही डाल सकता है.
  2. अगर कोई बॉलर 9 बॉल डालता है तो उसे बल्लेबाजी करने वाली टीम को 1 रन मिलेगा ही और साथ ही साथ बल्लेबाज को फ्री हिट भी मिलेगी यानी कि बैट्समैन केवल रन आउट होगा उसके अलावा कैच या फिर कोई भी प्रकार का आउट नहीं माना जाएगा.
  3. इसमें 20 ओवर पूरे होने के दौरान लेक साइड पर केवल 5 फील्ड से ज्यादा खड़े नहीं हो सकते हैं और पावरप्ले यानी कि पहले 6 ओवर के दौरान 30 यार्ड के घेरे के बाहर दो फिल्डर ही खड़े होंगे.
  4. पहले 6 वर्ग के खत्म होने के बाद अधिकतम पांच फिल्डर ही गोले के बाहर खड़े हो सकते हैं उससे ज्यादा नहीं.
  5. अगर बॉलिंग करने वाली टीम 75 मिनट के भीतर भीतर पूरे 20 और खत्म नहीं करती हैं तो अंपायर उन पर 6 रन की पेनल्टी लगा सकते हैं.
  6. इसमें दो इनिक्स के बीच में सिर्फ 15 मिनट का ही इंटरवेल होता है उससे ज्यादा नहीं.
  7. अगर कोई गेंदबाज एक ही ओवर में 3 से ज्यादा 9 बोल सकता है तो उसे उस टीम के कप्तान द्वारा गेंदबाजी से हटाने का पूरा आदेश होता है.
  8. बारिश यहां पर किसी कारणवश मैच ना होने पर इस मैच को रद्द कर दिया जाता है और दोनों टीमों को एक एक पॉइंट दिया जाता है ना कि इस मैच को अगले दिन वापस शुरू किया जाता है अन्य क्रिकेट प्रारूपों की तरह.
  9. इसमें डीआरएस सिस्टम का इस्तेमाल दोनों टीमों के द्वारा केवल दो बार लिया जा सकता है और अगर आपके द्वारा लिया गया डीआरएस का निर्णय आपके पक्ष में निकलता है तो आपका डीआरएस व्यर्थ नहीं जाता है और आपको एक और चांस मिलता है अगला डीआरएस लेने के लिए.
  10. इसमें केवल पहले पांच और ही पावरप्ले के माने जाते हैं जिसमें 30 यार्ड के बाहर केवल दो खिलाड़ी रहते हैं ताकि बल्लेबाज आराम से एक अच्छा उसको तैयार कर सके अपनी टीम के लिए.

यहां ऊपर हमने क्रिकेट के मेजर फॉर्मेट के बारे में बात कर ली है और इन सभी फॉर्मेट के रूल्स भी जान लिए हैं. लेकिन अभी भी क्रिकेट का एक फॉर्मेट बचा हुआ है जिसमें भी क्रिकेट के अलग-अलग मैच होते हैं और उनके भी कानून कायदे हैं. तो चलिए अब बात करते हैं माइनर क्रिकेट फॉर्मेट के बारे में.

माइनर क्रिकेट फॉर्मेट (Minor Cricket Format)

माइनर क्रिकेट फॉर्मेट कि अगर हम बात करें तो यह क्रिकेट के सबसे अलग प्रकार के मैच होते हैं. इनका मेजर क्रिकेट फॉर्मेट से कोई संबंध नहीं होता है और ना ही वे उनसे मिलते-जुलते होते हैं. यह छोटे स्तर पर खेलने जाने वाले क्रिकेट के कुछ नए फॉर्मेट हैं जिनका आविष्कार 19वीं शताब्दी में ही हुआ है.

  1. लघु मैच लघु मैच बहुत ही कम समय में खेले जाने वाला क्रिकेट का मैच है. यह मात्र 2 से 3 घंटों में ही पूरा खेल समाप्त हो जाता है और इसमें सीमित अवधि होते हैं.
  2. क्लब मैच अगर क्रिकेट जगत में देखा जाए तो यह फॉर्मेट यानी कि क्लब मैच क्रिकेट का सबसे व्यापक और स्वपन रूप है. इसमें सीमित ओवर 30 से लेकर 50 के बीच तक के होते हैं.
  3. इंडोर मैच इस प्रकार के क्रिकेट मैच यानी कि इंदौर मैच स्कोर केवल अंदर खेला जाता है ना कि बाहर. इसमें प्रत्येक टीम में 6 खिलाड़ी होते हैं यानी की टोटल पूरे मैच में 12 खिलाड़ी ही एक मैदान पर होते हैं. इस खेल को खेलने के लिए इसे अंदर की तरफ डिजाइन किया जाता है.
  4. डबल विकेट मैच यह एक अलग प्रकार का है क्रिकेट का प्रारूप है वह भी सबसे छोटे प्रारूप. क्योंकि इसमें दो टीम ही होती हैं और इसको दो खिलाड़ियों के द्वारा ही खेला जाता है. क्रिकेट के इस छोटे प्रारूप में भी सीमित और होते हैं जिसको एक दूसरे के खिलाफ दो खिलाड़ियों द्वारा खेला जाता है.
  5. क्विक मैच यह सबसे फास्ट प्रूफ क्रिकेट माना जाता है क्योंकि इस खेल का एक उच्च गति संस्करण होता है जिसमें केवल युवा खिलाड़ियों को खेल ना होता है.
  6. गार्डन मैच ब्रिटेन के आस-पास के बड़े-बड़े बागान और मनोरंजन मैदानों में हर कोई क्रिकेट खेलना पसंद करता है. यानी कि इससे स्थान की कमी के साथ शॉर्ट्स पर हमला करने की कोई अवधारणा निश्चित है.
  7. फ्रेंच मैच यह खेल आमतौर पर बच्चों द्वारा खेला जाता हैं. जिसमें बल्लेबाजी करने वाले खिलाड़ी के पैर पर गेंद डाली जाती हैं और इसमें खेलने के लिए टेनिस बॉल का उपयोग किया जाता है.
  8. टेप बॉल मैचइसके अंदर एक टेनिस बॉल को भारी गेंद बनाने के लिए यानी कि सही नियंत्रण में रखने के लिए इंसुलेशन टेप से लपेटा जाता है. खेल 4 से 12 ओवर तक सीमित होता है. पाकिस्तान बांग्लादेश दक्षिण एशिया और यूरोप में टेप बॉल सबसे ज्यादा लोकप्रिय है.
  9. वीगोरो मैच क्रिकेट के इस प्रारूप में गुरु मैच को मुख्य रूप से केवल महिलाओं द्वारा ही खेला जाता है. जिस प्रकार बेसबॉल खेला जाता है ठीक उसी प्रकार इस को भी महिलाओं द्वारा खेला जाता है बेसबॉल की तरह.
  10. ट्रोबियोंद मैच जैसा कि इस खेल का नाम है ठीक वैसे ही इस खेल को ट्रबियोंड द्वीप पर खेला जाता है. ट्रोबियों पपुआ न्यू गिनी मैं एक जीप है और इस जीव के नाम पर ही इस मैच का नाम पड़ा है.

अतः हमें आशा है कि आप ऊपर दी गई क्रिकेट के बारे में सभी जानकारियों से अवश्य संतुष्ट होंगे. ऐसे अगर देखा जाए तो हर गली हर मोहल्ले में अलग-अलग प्रकार से क्रिकेट खेला जाता है और उनके नियम कायदे भी अलग-अलग होते हैं. वह कहते हैं ना खेल चाहे कैसा भी हो बस खेलने वाले के मन में खेल के लिए अच्छी भावना होनी चाहिए. क्रिकेटर ना केवल आज गली मोहल्लों में ही सीमित रह गया है बल्कि आज यहां अंतरराष्ट्रीय तौर पर पहुंच चुका है. आप सभी जानते हैं हाल ही में 2019 वर्ल्ड कप की शुरुआत हो चुकी है तो आपको क्या लगता है कि क्रॉउन क्रिकेट का अबकी बार कौन लेकर जाएगा.

अन्य पढ़ें –

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *