ग्रीन टी के फायदे एवं नुकसान | Green Tea Benefits and Side Effects in Hindi

ग्रीन टी के फायदे एवं नुकसान, ग्रीन टी रोज कितनी पीना चाहिए (Green Tea Benefits and Side Effects, how much green tea should i drink in Hindi)

चाय और कॉफ़ी का अधिक सेवन करना स्वास्थ्य के लिए बुरा माना जाता है, क्योंकि यह आपकी कैफीन की मात्रा को बढ़ाता है. यहां हम ग्रीन टी की बात कर रहे हैं, जिसकी आज के युग में सबसे अधिक मांग होती हैं. क्योंकि यह अन्य चाय एवं पेय पदार्थों से बेहतर होता है. इसके कई सारे स्वास्थ्य, त्वचा एवं बालों के लिए लाभ हैं, किन्तु ग्रीन टी के कुछ नुकसान भी हैं. इस लेख में हम आपको ग्रीन टी से होने वाले सभी लाभ एवं हानि के बारे में बताने जा रहे हैं.

green tea

ग्रीन टी क्या है ? (What is Green Tea ?)

ग्रीन टी चीन और जापान में उगाई जाने वाली कमीलया साइनेंसिस की पत्तियों से तैयार की जाती है. ऐसी चाय की सबसे अच्छी गुणवत्ता यह है, कि पत्तियां प्रोसेसिंग के दौरान न्यूनतम ऑक्सीकरण से गुजरती हैं और इसलिए इसमें रासायनिक पदार्थ नहीं होते हैं. और जिसके चलते इसमें अधिकांश स्वास्थ्य गुण और तत्व बरकरार रहते हैं.

ग्रीन टी में पाए जाने वाले पोषक तत्व (Green Tea Nutrition Value) 

ग्रीन टी में निम्न पोषक तत्व पाए जाते हैं –

  • ग्रीन टी एंटी – ऑक्सीडेंट और एंटी – बैक्टीरियल गुणों से भरी होती है. इसकी पत्तियों में विभिन्न एंजाइम, कार्बोहाइड्रेट, आहार मिनरल्स, अमीनो एसिड, बायो – एक्टिव कंपाउंड्स, लिपिड्स, स्टेरोल्स सम्बंधित कंपाउंड्स, पॉलीफेनोल्स और फ्लेवनॉल्स होते हैं जिनके अपने स्वास्थ्य लाभ होते हैं.
  • बिना पकाई हुई ग्रीन टी यानि इसमें जब आप कोई एडिटिव्स या मिठास नहीं डालते हैं, तो उस समय इसमें कैलोरी शून्य होती है.
  • सामान्य तौर पर काली चाय की तुलना में ग्रीन टी में अपेक्षाकृत कम मात्रा में लगभग 20 – 45 मिलीग्राम प्रति ओउंस कप कैफीन होता है, बल्कि काली चाय में लगभग 50 मिलीग्राम और 95 मिलीग्राम प्रति कप कैफीन होता है.
  • ग्रीन टी में विभिन्न विटामिन जैसे ए, डी, ई, सी, बी, बी 5, एच और के भी होते हैं.
  • इसके साथ ही ग्रीन टी मैगज़ीन का एक समृद्ध स्त्रोत है और इसमें जिंक, क्रोमियम और सेलेनियम के रूप में कई अन्य फायदेमंद खनिज भी होते हैं.

ग्रीन टी से होने वाले फायदे (Benefits of Green Tea health, skin, hair)

ग्रीन टी स्वास्थ्य के साथ – साथ त्वचा और बालों के लिए भी लाभकारी हैं. यहां हम आपको इससे होने वाले सभी तरह के लाभ की जानकारी दे रहे हैं –

स्वास्थ्य के लिए लाभ (Green tea health benefits )-

  • हृदय की सुरक्षा :- ग्रीन टी में पाये जाने वाले एंटी – ऑक्सीडेंट ख़राब कोलेस्ट्रॉल को कम करने, अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने एवं ब्लडप्रेशर को कम करने में मदद करते हैं. और इस तरह से यह हृदय की सुरक्षा करने में मददगार होते हैं. ‘हार्वर्ड मेडिकल स्कूल’ के हेल्थ वॉच मैगज़ीन द्वारा किये गये एक अध्ययन में इसकी पुष्टि करते हुए यह कहा गया था.
  • मस्तिष्क की कार्यक्षमता में वृद्धि करती है :- ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा पर्याप्त होती हैं, जोकि मस्तिष्क की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करती है. यह शरीर में एक उत्तेजक के रूप में कार्य करता है. यदि आप बहुत अधिक मात्रा में कैफीन लेते थे और आपको उसे छोड़ना है तो आप ग्रीन टी के माध्यम से धीरे – धीरे उसे छोड़ सकते हैं. मस्तिष्क को काम करने के विभिन्न पहलू जैसे मूड, प्रतिक्रिया और मेमोरी आदि में सुधार लाने के लिए ग्रीन टी बहुत मददगार होती है. ग्रीन टी में कैफीन के साथ ही साथ एमिनो एसिड एल – थीनिन भी होता है, जोकि विशेष रूप से मस्तिष्क के फंक्शन में सुधार करने में कुशल होता हैं.
  • वजन कम करती है :- ग्रीन टी के लोकप्रिय होने का एक मुख्य कारण वजन घटाने की दिशा में इसका योगदान भी है. और ग्रीन टी इसमें कारगार साबित हुई है. यह शरीर के चयापचय को बढ़ाती है और कुछ हद तक फैट को बर्न करने का काम भी करती है. दरअसल ग्रीन टी में पाया जाने वाला पॉलीफेनॉल फैट को बर्न करने में मदद करता हैं. और जब आपके शरीर से अतिरिक्त फैट कम हो जाता है तो आपका वजन अपने आप ही कम होने लगता है. इसलिए यह वजन कम करने के लिये फायदेमंद हैं.
  • कैंसर की रोकथाम :- शोधकर्ताओं से यह पता चला है कि नियमित रूप से ग्रीन टी का सेवन करने से शरीर में कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने में मदद मिल सकती हैं. साथ ही अन्य कोशिकाओं के आसपास कोई भी हेल्थ टिश्यू से शरीर को होने वाले नुकसान से यह बचाती भी है. ग्रीन टी में पाए जाने वाले एंटी – ऑक्सीडेंट कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकते हुए उसके सामने एक सुरक्षात्मक बैरियर लगा देता है. जिससे कि यह विभिन्न प्रकार के कैंसर जैसे स्तन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोरेक्टल कैंसर आदि से शरीर की रक्षा हो सके.
  • अल्जाइमर और पार्किन्सन का रिस्क कम करती है :- ग्रीन टी में कैटेचिन कंपाउंड होता हैं जोकि मस्तिष्क की कोशिकाओं में न्यूरोंस पर कार्य करता है, और अल्जाइमर एवं पार्किन्सन रोगों के रिस्क को कम करने में मदद करता है, इस रोग से आमतौर पर बुजुर्ग महिलाएं एवं बुजुर्ग पुरुष पीड़ित होते हैं.
  • बैक्टीरियल इन्फेक्शन से सुरक्षा करती हैं :- ग्रीन टी में कुछ ऐसे गुण होते हैं जोकि बैक्टीरिया और वायरस के कारण शरीर में होने वाले इन्फेक्शन से रक्षा करते हैं. ग्रीन टी में मौजूद बीटा – कैरोटीन श्वसन एवं पाचन तंत्र के रखरखाव में मदद करता है. और साथ ही विटामिन सी ठण्ड को रोकने और थकान को कम करने में मदद करता है.
  • एंटी – एजिंग गुण :- यह सच हैं कि यदि आप नियमित रूप से ग्रीन टी का सेवन करते हैं तो यह आपको लंबे समय तक जीने में मदद करेगा. इसका कारण यह हैं कि यह आपको विभिन्न बीमारियों से बचाता है. एक कप ग्रीन टी आपके शरीर का कायाकल्प करती हैं, जिससे आप दिन की शुरुआत करने के लिए तरोताजा और सक्रीय महसूस करते हैं.

त्वचा के लिए लाभ (Green tea benefits for Skin)–

  • त्वचा में नई जान लाना :- ग्रीन टी आपकी त्वचा में फिर से जान डालने एवं चमकदार बनाने में मदद कर सकती है. और उसे स्वस्थ बना सकती हैं. यह त्वचा से टोक्सिन को हटाने, सूजन को कम करने, और मुंहासों और निशान को ठीक करता है. यह त्वचा की इलास्टिसिटी को भी बेहतर बनाता है. इसके लिए आप 2 उपयोग किये हुए ग्रीन टी में 1-2 छोटी चम्मच शहद, एक छोटा नींबू आदि मिलाएं और इसे चेहरे पर लगायें. और 5 -10 मिनिट बाद गुनगुने पानी से धो लें. यह काफि असरदार होता है.
  • पफी आईज और डार्क सर्कल्स को कम करता है :- एक शोध में यह पाया गया है कि ग्रीन टी में पाया जाने वाला विटामिन के पफी आईज और डार्क सर्कल्स को कम करता है. इसके लिए उपयोग किये हुए ग्रीन टी बैग्स को आधे घन्टे के लिए फ्रिज में रखें, फिर इसे अपनी आंखों को बंद करके उसके ऊपर रखें, और 15 मिनिट ऐसे ही रखें रहने दें, आप बहुत रिलेक्स महसूस करेंगे.
  • मुंहासों का इलाज एवं त्वचा के लिए टोनर :- इसी तरह उपयोग किये हुए ग्रीन टी बैग्स को पानी के साथ मिलाकर इसे कॉटन की सहायता से अपने चेहरे पर लगायें, यह मुंहासों और फुंसियों के ईलाज एवं एक त्वचा के टोनर के रूप में कार्य करता है.

बालों के लिए लाभ (Green tea benefits for hair)–

  • बालों के विकास को बढ़ाती है :- ग्रीन टी में अधिक मात्रा में एंटी – ऑक्सीडेंट होते हैं, जो बालों के विकास को बढ़ाते हैं. इसमें मौजूद कैटेचिन में 5 अल्फ़ा – रिडक्टेज अवरोधक गुण होते हैं जो बालों के झड़ने के प्रमुख कारणों में से एक डीएचटी (डायहाइड्रोटेस्टोस्टेरोन) को ब्लॉक करने में मदद करता है. यह नए बालों के विकास को बढ़ावा देने में भी मदद कर सकता है. ग्रीन टी आम बालों और स्कैल्प से सम्बंधित समस्याओं जैसे ड्राई स्कैल्प और रूसी को दूर रखने में भी उपयोगी है. इसके लिए आप अपने बालों को धोने के बाद ताज़ा ग्रीन टी में पानी मिलाकर बालों में इसका प्रयोग करें. और इसे 10 मिनिट ऐसे ही रखें और इसे फिर धो लें, ऐसा एक सप्ताह में 2 से 3 बार करें. इसके अलावा बालों को सुंदर बनाने के लिए 2 से 3 कप ग्रीन टी रोज पियें.
  • बालों को चमकदार बनाती है :- अपने बालों को मजबूत और स्वस्थ बनाने के अलावा ग्रीन टी आपके स्कैल्प की चिकनाई से छुटकारा पाने में मदद कर सकती है, जिससे आपको चमकदार और सुंदर बाल प्राप्त होते हैं. साथ ही यह प्रदूषण और कठोर रसायन आधारित बालों में उपयोग होने वाले उत्पादों के नुकसान से भी बचाती है. ग्रीन टी में मौजूद पैंथेनॉल और विटामिन सी एवं ई के हाई लेवल आपके बालों को कंडीशन करते हैं. इसके लिए आप 4 कप गर्म पानी में 2 से 3 ग्रीन टी बैग्स डालें, दूसरी ओर अपने बालों को गीला करें. इसके बाद ग्रीन टी बैग्स को हटा कर उस घोल को अपने बालों में लगायें. फिर इसे 10 मिनिट रखने के बाद शैम्पू कर लें. इस तरह से आपके बाल चमकदार बनेंगे. यह आपके स्कैल्प के खुले हुए छिद्रों को भी सिकोड़ता भी हैं जिससे कि उसमें बेक्टेरिया का इन्फेक्शन नहीं हो पाता.

इस तरह से ग्रीन टी स्वास्थ्य लाभ के अलावा आपकी त्वचा एवं बालों को भी सुन्दरता प्रदान कर लाभ देती हैं. इसलिए यह बहुत ही उपयोगी व्यंजन हैं.

ग्रीन टी से होने वाले नुकसान एवं रिस्क (Side Effects and Risk from Green Tea)     

वयस्क लोगों के लिए ग्रीन टी का सेवन करने के लिए कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं हैं लेकिन फिर भी ग्रीन टी से होने वाले कुछ नुकसान या रिस्क का पता होना भी आवश्यक हैं तो आइये आपको इसके बारे में जानकारी देते हैं –

  • कैफीन सेंसिटिविटी :- वे लोग जो अधिक मात्रा में ग्रीन टी का सेवन करते हैं उनके शरीर में कैफीन की मात्रा बढ़ जाती हैं जिससे वे लोग अनिद्रा, चिंता, चिड़चिड़ापन, उल्टी या पेट ख़राब, अनियमित दिल की धड़कन, आँख के रोग, ब्लीडिंग डिसऑर्डर और बार – बार पेशाब आना जैसी बीमारी जा अनुभव कर सकते हैं.
  • गर्भावस्था के दौरान ग्रीन टी पीने में रिस्क :- गर्भावस्था के दौरान, ग्रीन टी का निरंतर सेवन करने से गर्भपात होने की आशंका बढ़ जाती हैं. इसलिए यदि एक या अधिकतम दो कप ग्रीन टी का सेवन यदि ऐसी महिलाएं करती हैं तो उनके लिए उचित होगा. लेकिन यदि वे गर्भावस्था के उन कुछ महीनों के लिए इससे बच सकती हैं तो इसका सेवन न ही करें तो बेहतर होगा. क्योंकि ग्रीन टी में मौजूद कैफीन की स्तन के दूध में फैलने की सम्भावना होती हैं, जिससे बच्चे पर भी इसका दुष्प्रभाव हो सकता है.
  • आयरन की कमी :- ग्रीन टी का अधिक सेवन करने से एनीमिया और आयरन की कमी जैसी समस्या भी बढ़ सकती है.
  • मेडिसिन में नुकसान :- ग्रीन टी में हाई लेवल के कुछ सक्रीय पदार्थ होते हैं जो साइड इफेक्ट्स को ट्रिगर कर सकते हैं और अन्य जड़ी – बूटियों, पूरक आहार या मेडिसिन के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं. इस लिए आप जब भी ग्रीन टी का सेवन करना शुरू करें तो अपने विशेषज्ञों की सलाह अवश्य लें एवं इससे होने वाले नुकसान पर विशेष ध्यान दें.

इस तरह से ग्रीन टी अपने फायदे के साथ – साथ नुकसान भी लेकर आती हैं, तो आपको इसका सेवन करने से पहले सावधानी बरतनी आवश्यक हैं.

अन्य पढ़े:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *