अलका लांबा का जीवन परिचय [Alka Lamba Biography in Hindi] age, caste, boyfriend, latest news 2022

अलका लांबा का जीवन परिचय [जन्म तारीख, उम्र, जाति, धर्म, पिता, पति, पॉलिटिक्स पार्टी, पेशा, बॉयफ्रेंड, शिक्षा, करियर, राजनीतिक करियर, अवार्ड्स, गो फ़ाउंडेशन, विवाद, नेट वर्थ ] Alka Lamba Biography in Hindi [ date of birth, age, caste, religion, politics party, profession, boyfriend, education, career, political career, awards, controversy, net worth]

अपने अब तक के राजनीतिक करियर में खूब सुर्खियां बटोरने वाली अलका लांबा ने सबसे पहले छात्र संघ छात्र नेता बनने का मन बनाया और इस प्रकार से दिल्ली यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष के तौर पर इन्हें चुना गया।

बाद में इन्हें भारतीय महिला कांग्रेस के महासचिव के पद पर साल 2002 में कांग्रेस पार्टी के द्वारा पद दिया गया। हालांकि आज चलकर के इन्होंने कांग्रेस पार्टी को छोड़ दिया, उसके बाद अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी में शामिल हो गई और साल 2015 में इन्हें दिल्ली के चांदनी चौक विधानसभा से विधायक बनने का मौका भी प्राप्त हुआ।Alka Lamba Jivani (अलका लांबा)

अलका लांबा का जीवन परिचय [Alka Lamba Biography in Hindi]

नाम:  

अलका लांबा

 

जन्मदिन:  

21 सितंबर 1975

 

वर्तमान उम्र:  

47 साल

 

 

लिंग:

 

महिला
 

राष्ट्रीयता:

 

भारतीय
धर्म:  

हिंदू

 

 

जाति:

 

जाट
 

राशि:

 

कन्या
जन्म स्थान:  नई दिल्ली, भारत
पता:  

c-39, टैगोर गार्डन एक्सटेंशन, नई दिल्ली

 

पॉलीटिकल पार्टी: कांग्रेस पार्टी,आम आदमी पार्टी
 

पेशा:

 

पॉलीटिशियन
लंबाई:  

5 फुट 3 इंच

 

वजन: 70 किलो

 

 

आंखों का रंग:

 

काला
 

बालों का रंग:

 

काला
 

बॉयफ्रेंड:

 

आशीष खेतान (अफवाह)

 

अलका लांबा का प्रारंभिक जीवन

एक हिंदू परिवार में श्रीमान अमरनाथ लांबा और श्रीमती राजकुमारी लांबा के घर में साल 1975 में 21 सितंबर के दिन अलका लांबा जी ने जन्म लिया थी। अलका लांबा जी के भाई बहन के बारे में हमें कोई भी जानकारी प्राप्त नहीं है। अलका लांबा जी आज राजनीति की फील्ड में काफी जाना माना नाम बन चुकी हैं।

अलका लांबा की शिक्षा

पैदा होने के बात जब इन्हें थोड़ी समझदारी प्राप्त हुई तब एजुकेशन प्राप्त करने के उद्देश्य से इनके पिता अमरनाथ लांबा और इनकी माताजी राजकुमारी लांबा जी के द्वारा उनका एडमिशन दिल्ली राज्य में मौजूद राज्यकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में करवाया गया। इस प्रकार अलका लांबा की प्रारंभिक शिक्षा दीक्षा दिल्ली में मौजूद राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय से पूरी हुई।

इसके पश्चात अलका लांबा जी को बैचलर ऑफ साइंस के कोर्स में इंटरेस्ट पैदा हुआ और इस कोर्स को करने के लिए उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी में बैचलर ऑफ साइंस के कोर्स में एडमिशन प्राप्त किया। दिल्ली यूनिवर्सिटी से बीएससी की डिग्री हासिल करने के पश्चात इन्होंने केमिस्ट्री में MSC और मास्टर ऑफ एजुकेशन की डिग्री उत्तर प्रदेश में मौजूद बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी से प्राप्त की। इस प्रकार अलका लांबा एक वेल ग्रेजुएट महिला है।

अलका लांबा का राजनीतिक कैरियर

अलका लांबा ने अपने राजनीतिक कैरियर की शुरुवात कांग्रेस पार्टी में तब की, जब वह मात्र 19 साल की थी। फिर 19 साल की उम्र में ही यह नेशनल कांग्रेस के स्टूडेंट विंग एनएसयूआई में शामिल हो गई थी और इसी टाइम वह दिल्ली यूनिवर्सिटी में ग्रेजुएशन की डिग्री की एजुकेशन भी हासिल कर रही थी।

अलका लांबा ने साल 1995 में दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र संघ के अध्यक्ष को भी लड़ा था, जिसमें इन्हें विजय प्राप्त हुई थी। इसके बाद आगे बढ़ते हुए ऑल इंडिया कांग्रेस वूमेन कमेटी का महासचिव इन्हें साल 2002 में बनने का मौका प्राप्त हुआ

यह लगातार साल 2007 से लेकर के साल 2011 तक इंडियन नेशनल कांग्रेस में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव के पद पर कार्यरत रही। इसके पश्चात जब साल 2014 में आम आदमी पार्टी का उदय हुआ, तब इन्होंने कांग्रेस पार्टी को छोड़ दिया और यह आम आदमी पार्टी में शामिल हो गई, जिसके कर्ताधर्ता अरविंद केजरीवाल हैं।

आम आदमी पार्टी की तरफ से उन्होंने साल 2015 में चांदनी चौक विधानसभा से विधायक का चुनाव लड़ा। चुनाव में इन्हें काफी शानदार जीत प्राप्त हुई। उसके बाद आगे बढ़ते हुए उन्होंने साल 2019 में आम आदमी पार्टी को छोड़ने का निर्णय लिया और यह फिर से कांग्रेस पार्टी में शामिल हुई और उन्होंने साल 2020 में फिर से चुनाव लड़ा जिसमें इन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा।

अलका लांबा का परिवार

इन्होंने अपने पति के तौर पर लोकेश कपूर को स्वीकार किया क्योंकि इनकी शादी लोकेश कपूर से हुई थी। शादी के कुछ साल बीत जाने के बाद इन दोनों के बीच किसी बात को लेकर के विवाद पैदा होना चालू हो गया और लंबे समय के बाद इन दोनों ने एक दूसरे को छोड़ने का निर्णय लिया। इस प्रकार वर्तमान में अलका लांबा अपने बेटे के साथ रहती है जिसका नाम रितिक लांबा है।

अलका लांबा और गो फाउंडेशन

अलका लांबा काफी समय से मानवाधिकार के मुद्दे पर एक एक्टिव प्रचारक के तौर पर अपना काम कर रही है। अलका लांबा के द्वारा एक एनजीओ भी चलाया जाता है जिसका नाम ‘गो इंडिया फाउंडेशन” है। उन्होंने साल 2010 में ब्लड डोनेशन अभियान भी चलाया था जिसके अंतर्गत तकरीबन 65000 लोगों ने अपना खून दान किया था। इस अभियान को बॉलीवुड के कुछ सुपरस्टार जैसे कि रितेश देशमुख, दिया मिर्जा और सलमान खान के द्वारा भी भरपूर सपोर्ट दिया गया था।

अलका लांबा के विवाद

जब अलका लांबा विद्यार्थी थी, तभी से इन्हें चर्चा में रहना काफी ज्यादा पसंद था। यह कॉलेज के दरमियान कॉलेज में आयोजित होने वाले स्टेज शो में पार्टिसिपेट करती थी और यही वजह है कि अधिकतर लोग कॉलेज के दरमियान हीं इनके बारे में जानने लगे थे। अलका लांबा पिछले तकरीबन 20 सालों से कांग्रेस पार्टी के साथ जुड़ी हुई है। हालांकि कांग्रेस पार्टी के दिल्ली चुनाव हार जाने के पश्चात उन्होंने कांग्रेस पार्टी को छोड़ दिया और उसके बाद इन्होंने आम आदमी पार्टी का दामन संभाल लिया।

ऐसा भी कहा जाता है कि दिल्ली चुनाव में कांग्रेस पार्टी के द्वारा अलका लांबा को टिकट नहीं दिया गया था, जिसकी वजह से अलका लांबा नाराज हो गई थी। एक बार इन्होंने गुवाहाटी रेप पीड़िता की पहचान को भी सोशल मीडिया पर उजागर कर दिया था, जिसकी वजह से लोगों ने इन्हें काफी खरी-खोटी सुनाई थी।

अलका लांबा की उपलब्धियां

  • बेस्ट स्टूडेंट लीडर का अवार्ड अलका लांबा को दिल्ली यूनिवर्सिटी के द्वारा साल 1995 में दिया गया था साल 2008 में इंदिरा गांधी प्रतिष्ठित अवार्ड अलका लांबा को महिलाओं के लिए किए गए काम के बदले में प्राप्त हुआ था
  • अलका लांबा ने कई बार वेनेजुएला,चाइना, यूएसए, यूके और रशिया जैसे देशों में महिला सशक्तिकरण के विषय पर भाषण दिए हैं।
  • जब साल 2010 में दिल्ली में राष्ट्रमंडल खेल का आयोजन हुआ था, तब रानी बैटन रिले आयोजन कमेटी के लिए अलका लांबा ने संयोजक के तौर पर काम किया था।
  • दैनिक प्रयुक्ति के द्वारा साल 2018 में अलका लांबा को वार्षिक विधायक पुरस्कार प्राप्त हुआ था।

 अलका लांबा से जुड़ी रोचक जानकारी

  • अलका लांबा को राजनीति में आए हुए तकरीबन 20 साल का समय हो गया है।
  • अपने बयानों की वजह से अलका लांबा कई बार विवादों में रह चुकी है।
  • अलका लांबा के बारे में सोशल मीडिया पर तरह-तरह की बातें होती रहती हैं।
  • अलका लांबा को दक्षिणपंथी संगठन पसंद नहीं करते हैं।
  • अलका लांबा एक एनजीओ चलाती है जिसका नाम गो इंडिया फाउंडेशन है।
  • अलका लांबा के एनजीओ के काम को सलमान खान दिया, मिर्जा जैसे लोगों के द्वारा सपोर्ट किया गया है।

अलका लांबा की कुल कमाई

अलका लांबा की कुल कमाई के बारे में बात करें तो इनके पास नकद के तौर पर ₹80,000 हैं, साथ ही बैंक डिपॉजिट के तौर पर इनके पास 22 लाख रुपए हैं। इसके अलावा इनके पास 2 करोड रुपए का मकान भी है और इनकी साल 2019 की रिपोर्ट के अनुसार हर महीने इनकम 6 लाख 24 हजार है।

FAQ:

Q: अलका लांबा के पति का नाम क्या है?

ANS: लोकेश कपूर

Q: अलका लांबा किस जाति से संबंध रखती है?

ANS: जाट

Q: अलका लांबा किस पार्टी से विधायक बनी थी?

ANS: आम आदमी पार्टी

Q: अलका लांबा कौन सा एनजीओ चलाती है?

ANS: गो इंडिया फाऊंडेशन

Leave a Reply

Your email address will not be published.