भारत में ई-पासपोर्ट ( E-passports in India)

भारत में ई-पासपोर्ट,क्या है ई-पासपोर्ट,ई-पासपोर्ट से जुड़े मुख्य बिंदु ,कैसे काम करता है ई-पासपोर्ट,लाभ,जरूरी दस्तावेज़, कौन से देशों में है ई-पासपोर्ट सुविधा,भारत में ई-पासपोर्ट की लॉन्च डेट (E-passports in India, What is e-passport, Highlights of e-passport, How does e-passport work, Benefits, Documents, Countries with e-passport facility, Launch date of e-passport in India)

हाल ही में ये खबर आई है कि भारत सरकार जल्द ही ई-पासपोर्ट की सुविधा अपने नागरिकों के लिए लाने जा रही है। ये खबर भारत सरकार के विदेश मंत्रालय के सचिव संजय भट्टाचार्य ने साझा की है। ई-पासपोर्ट की सुविधा भारतीय नागरिकों को सुरक्षित बायोमेट्रिक डेटा और बिना बाधा के विश्वभर में यात्रा करने का अवसर प्रदान करेगी। इसके साथ ही ई-पासपोर्ट अंतराष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन के पैरामीटर्स का भी पालन करेगा।हालाकि ई-पासपोर्ट से जुड़ी खबरें पहले भी आईं थी जब विदेशमंत्री एस जयशंकर ने इस बारे में चर्चा की थी। तो आइए इस आर्टिकल के ज़रिए समझते हैं ई-पासपोर्ट के बारे में। यहां हम ये भी बताएंगे कि अभी ई-पासपोर्ट किन देशों के द्वारा प्रयोग में लाया जाता है और इसका क्या महत्व है।

क्या है ई-पासपोर्ट (What is e-passport)

ई-पासपोर्ट चिप इनेबल्ड पासपोर्ट होगा। इसमे बायोमेट्रिक डेटा सुरक्षित रहेगा। कागज़ी पासपोर्ट की तुलना में एक ई-पासपोर्ट ज्यादा सुरक्षित और फायदेमंद होगा क्योंकि इसके साथ मुड़ने, गुम होने, फटने जैसी तमाम समस्याओं का निवारण हो जाएगा। इसके प्रयोग में आने पर विश्वस्तरीय इमिग्रेशन की जरूरतों का भी ध्यान रखा जाएगा।

ई-पासपोर्ट से जुड़े मुख्य बिंदु (Highlights of e-passport)

भारत में नागरिकों के लिए कब आएगा  डेट जारी नहीं हुई है।
भारत में प्रथम ई-पासपोर्ट 2008 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को दिया गया
भारत में पासपोर्ट संबंधित ऑफिशियल वेबसाइट लिंक
विश्व का पहला ई-पासपोर्ट 1998 में मलेशिया

 

कैसे काम करता है ई-पासपोर्ट (How does e-passport work)

ई-पासपोर्ट में वैसी ही चिप लगी होती है जैसी किसी ड्राइविंग लाइसेंस में होती है। इस माइक्रोचिप में सारी जरूरी जानकारियां शामिल होती हैं जो कि एक सामान्य पासपोर्ट पर दी जाती हैं। इन जानकारियों में नाम, जन्म तिथि, पता आदि से जुड़ी बाते शामिल होती हैं। ई-पासपोर्ट की मदद से पासपोर्ट संबंधी घपलों को भी रोकने में मदद मिलेगी। पासपोर्ट पर लगे चिप काउंटर्स पर यात्री की जानकारियों को आसानी से वेरिफाई करने में मदद करते हैं।

ट्रायल के रूप में भारत के विदेश मंत्रालय ने करीबन बीस हज़ार अधिकारियों को ई-पासपोर्ट जारी किए हैं।इन सभी पासपोर्ट में इलेक्ट्रॉनिक चिप लगा हुआ है। आपको बता दे कि भारत का पहला ई-पासपोर्ट 2008 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को दिया गया था।

ई-पासपोर्ट का क्या लाभ होगा (Benefits of e-passport)

  • ई-पासपोर्ट यात्रियों को वेरिफिकेशन के लिए लगने वाली लंबी कतारों से बचा लेगा। ई-पासपोर्ट को स्कैन करने में कुछ ही सेकंड्स की अवधि लगेगी।
  • इसमें चिप लगी होगी जिसमें यात्री की महत्वपूर्ण जानकारियां निहित होंगी। इससे डेटा सुरक्षित रहेगा और नकली या दोहरे पासपोर्ट की कोई समस्या उत्पन्न नहीं होगी।
  • कोई भी चिप में दी गई जानकारियां मिटा नही सकता है। इसलिए किसी प्रकार की गड़बड़ी की आशंका कम हो जाती है।

ई-पासपोर्ट बनवाने के लिए जरूरी दस्तावेज़ (Documents required for e-passport)

एक सामान्य पासपोर्ट बनवाने के लिए जन्मतिथि प्रमाण पत्र, वर्तमान निवास प्रमाण पत्र (एड्रेस प्रूफ के लिए बिजली का बिल, आईडी कार्ड, गैस कनेक्शन, टेलीफोन अथवा मोबाइल बिल, पानी का बिल, आधार कार्ड, रेंट एग्रीमेंट) आदि दस्तावेजों को दिया जाता है। उम्मीद है ई-पासपोर्ट बनवाने के लिए भी इन्ही दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी।

कौन से देशों में है ई-पासपोर्ट सुविधा (Countries with e-passport facility)

साल 1998 में मलेशिया वो पहला देश बना जिसने ई-पासपोर्ट की सुविधा अपने नागरिकों को दी थी। अब दुनिया भर में ई-पासपोर्ट की सुविधा देने वाले कई देश मौजूद हैं। हाल ही खबर भी आई थी कि दक्षिण एशियाई देशों में बांग्लादेश ई-पासपोर्ट को प्रयोग में लाने वाला पहला देश बन चुका है। दुनिया भर में जर्मनी, यूके, इजिप्ट, अल्जीरिया, केन्या आदि देशों के नागरिक ई-पासपोर्ट की सुविधा का लाभ उठाते हैं।

भारत में ई-पासपोर्ट की लॉन्च डेट (Launch date of e-passport in India)

भारत में ई-पासपोर्ट को आम नागरिकों के लिए जल्द ही लॉन्च किया जाएगा। अभी ई-पासपोर्ट को ले कर ट्रायल्स किए जा रहे हैं। सरकार के द्वारा अभी ऐसी कोई डेट नहीं दी गई जिस पर ई-पासपोर्ट को लागू किए जाने की सूचना हो। नागरिकों को इस संदर्भ में थोड़ा इंतजार करना होगा।

FAQs

  • भारत में पहला ई-पासपोर्ट किसे मिला?

        2008 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा सिंह पार्टिल को।

  • भारत में ई-पासपोर्ट नागरिकों के लिए कब तक आएगा?

         डेट जारी नहीं हुई है।

  • ई-पासपोर्ट के लिए कौन से दस्तावेज चाहिए?

        वही दस्तावेज को सामान्य पासपोर्ट के लिए चाहिए।

  • ई-पासपोर्ट को लागू करनेवाला पहला देश कौन है?

         मलेशिया।

अन्य पढ़ें-

  1. आईएनएस विशाखापत्तनम
  2. डीजीपी कांफ्रेंस
  3. संसद चलो
  4. कृषि कानून वापसी की घोषणा

Leave a Reply

Your email address will not be published.