संसद शून्यकाल (जीरो आवर) (Zero hour in Parliament)

संसद शून्यकाल, संसद की कार्यवाही,प्रश्नकाल (Zero Hour, Working Hours of Parliament, Question Hour)

भारत में संसद में दो सभा (Houses) होती है। एक राज्य सभा और दूसरी लोक सभा। दोनों ही सभाएं देश और लोगों के मुद्दों को संसद के समक्ष रखती है। मगर क्या आप जानते हैं कि संसद के भी प्रश्न और मुद्दों को सुनने के कुछ अपने ही रूल्स ऑफ प्रोसीजर्स होते हैैं अथवा कुछ प्रश्न और मुद्दे ऐसे भी हैं जो कि रूल्स ऑफ प्रोसीजर्स में नहीं बताए गए हैं। संसद सुबह 11:00 बजे शुरू होती है और शाम 6:00 बजे बंद हो जाती है। संसद के खुलने और बंद होने के बीच के समय को संसद कार्यवाही कहते हैं और देश के अहम और अन्य मुद्दों की चर्चा के कुछ समय निर्धारित होते हैं। तो क्या होता है संसद का शून्यकाल (Zero hour) होता क्या है? 

यह आर्टिकल आपको जीरो आवर से जुड़ी सभी बातें विस्तार से बताएगा। संसद के जीरो आवर में क्या होता है और यह कब शुरू होता है, इन सभी जानकारी को जानने के लिए आर्टिकल को अंत तक पढ़ें। 

क्या होता है शून्यकाल (Zero hour)?

संसद का प्रश्नकाल जब खत्म हो जाता है यानी संसद का पहला घंटा (11:00 बजे से 12:00 बजे तक), तब उसके दूसरे घंटे को शून्य काल कहा जाता है। इसे ऐसे समझें कि जब प्रश्नकाल का समय खत्म हो जाता है तब शून्यकाल का समय शुरू होता है। प्रश्नकाल के ठीक बाद जो 1 घंटे का समय होता है उसे शून्यकाल कहते हैं। सुनने काल का समय दोपहर 12:00 से 1:00 तक का होता है। शून्यकाल में कोई भी सूचना नहीं देनी होती है। इसलिए यह समय इनफॉर्मल तरीके से इस्तेमाल किया जाता है। 

शून्यकाल में जो भी प्रश्न पूछे जाती है उनकी कोई भी सूचना नहीं दी जाती है। शून्यकाल एक ऐसा समय है जिसे रूल्स आफ प्रोसीजर्स में नहीं बताया गया है। यानी इस में पूछे जाने वाले प्रश्नों की सूचना नहीं दी जाती है। संविधान में इस काल यानी इस समय की कोई भी चर्चा नहीं की गई है। 

संसद की कार्यवाही (संसद का समय)(Working Hours of Parliament)

संसद सुबह 11:00 बजे शुरू होती है और शाम 6:00 बजे बंद हो जाती है। संसद की कार्यवाही के समय को दो भागों में बांटा गया है। पहला समय लंच से पहले तक का और बाकी लंच के बाद का। आपको बता दें कि लंच से पहले संसद में दो काल होते हैं:

  • प्रश्नकाल
  • शून्यकाल

क्या होता है प्रश्नकाल (Question hour)?

संसद में शुरुआत का सबसे पहला घंटा यानी 11:00 बजे से लेकर 12:00 बजे तक का, प्रश्नकाल कहलाता है। प्रश्नकाल संसद का वह समय है जब संसद में देश के अहम मुद्दों के सवाल पूछे जाते हैं। प्रश्नकाल में जो भी प्रश्न पूछे जाते हैं उनकी सूचना 10 दिन पहले ही संसद के महासचिव को दे दी जाती है। 

प्रश्नकाल के दौरान संसद में 4 तरह के प्रश्न पूछे जाते हैं। चार प्रकार के प्रश्न जो प्रश्नकाल में पूछे जाते हैं कुछ इस तरह हैं: 

  • तारांकित प्रश्न (Oral questions)
  • अतारांकित प्रश्न (written questions)
  • अल्प सूचना प्रश्न
  • गैर सरकारी सदस्य से पूछे जाने वाले प्रश्न

FAQs: 

संसद में कितनी सभाएं हैं?

Ans: संसद में 2 सभाएं होती हैं, एक राज्यसभा और दूसरी लोक सभा। 

शून्य काल का समय कब तक का होता है?

Ans: शून्य काल दोपहर 12:00 बजे से लेकर 1:00 बजे तक का होता है। 

प्रश्नकाल का समय कितने बजे तक का होता है? 

Ans: सुबह 11:00 बजे से लेकर दोपहर 12:00 बजे तक। 

संसद कब से शुरू होती है?

Ans: सुबह 11:00 बजे से। 

संसद का समय कब खत्म होता है? 

Ans: शाम 6:00 बजे। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.