अनुसुइया उइके पर द्रौपदी मुर्मू कैसे पड़ गईं भारी

बीजेपी ने द्रौपदी मुर्मू पर दांव लगाया वरना आदिवासी तो अनुसुइया उइके (Anusuiya Uikey) भी थीं

100 फीसदी जीत की गारंटी सिर्फ और सिर्फ द्रौपदी मुर्मू के साथ थी। देश का अगला राष्ट्रपति बनने से उन्हें कोई नहीं रोक सकता। 

कैलकुलेशन में एनडीए और विपक्षी पार्टियों की वोटों में बहुत ज्यादा का अंतर नहीं था।

अनुसुइया उइके फिलहाल छत्तीसगढ़ के राजभवन से राजकाज देख रही हैं।

अनुसुइया उइके का बैकग्राउंड कांग्रेसी रहा है। जबकि द्रौपदी मुर्मू कांग्रेसी 'कुल' की नहीं रहीं हैं।

अनुसुइया उइके का पूरा राजनीतिक करियर कांग्रेसी रहा है। कांग्रेस के शासनकाल में वो मंत्री भी रहीं।

परन्तु द्रौपदी मुर्मू बीजेपी की टिकट पर दो बार विधायक रहीं। फिर उन्हें राज्यपाल बनाया गया। 

द्रौपदी मुर्मू झारखंड की पहली महिला राज्यपाल बनने का खिताब भी द्रौपदी मुर्मू के नाम रहा।

ऐसे में एक कांग्रेसी बैकग्राउंड की आदिवासी महिला अनुसुइया उइके से बीजेपी के लिए बेहतर दांव द्रौपदी मुर्मू रहीं, जिनके नाम के साथ जीत की गारंटी भी है 

ऐसी ही लेटेस्ट खबरों के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करे

स्टोरी पसंद आये तो शेयर करे

Arrow